भारी बर्फ़बारी के कारण 8 घंटे केदारनाथ में फसे रहे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और योगी।



भारी बर्फबारी के चलते केदारनाथ में आठ घंटे फंसे रहने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत अन्य मंत्रीगण व अधिकारी शाम पौने पांच बजे हेलीकॉप्टर से गौचर चले गए। खराब मौसम के कारण वे गौचर में ही आईटीबीपी कैंप में रात्रि प्रवास करेंगे और मंगलवार को मौसम साफ रहने पर ही बदरीनाथ जाएंगे।

सोमवार को तड़के से ही केदारनाथ में तेज बर्फबारी होती रही। सुबह 8.30 बजे बाबा केदारनाथ के कपाट बंद होने के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ व प्रदेश के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत मंदिर मार्ग पर बाबा की डोली के साथ गए।

डोली को विदा करने के बाद सीएम योगी को करीब 8.40 बजे बदरीनाथ धाम के लिए रवाना होना था, लेकिन बर्फबारी के चलते हेलीकॉप्टर केदारनाथ नहीं पहुंच सका। इसके बाद प्रशासन व पुलिस अधिकारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दोनों मुख्यमंत्री व अन्य अतिथिगण जीएमवीएन के विश्राम गृह में पहुंचे।

8.30 बजे विधि-विधान के साथ बंद कर दिए गए केदारनाथ धाम के कपाट:
भाई दूज पर केदारनाथ धाम के गर्भगृह के कपाट बर्फबारी के बीच आज सुबह 5.30 बजे शीतकाल के लिए विधि-विधान के साथ बंद कर दिए गए, लेकिन लगातार हो रही बर्फबारी के कारण बाहरी कपाट बंद करने व डोली प्रस्थान में देरी हुई। बाहरी कपाट 8.30 बजे बंद किए गए।

इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक व राज्यमंत्री धन सिंह रावत मौजूद थे।

बाबा केदार के आदेश से ही उनके श्रीचरणों में आया हूं: योगी 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बाबा केदारनाथ जी का आदेश आया तो मैं उनके श्रीचरणों के दर्शनों को पहुंच गया हूं।

कहा कि मैं, जब भी नियमित पूजा में बैठता था तो केदारनाथ धाम मुझे दिखाई देता था और दो दिन पूर्व ही उत्तराखंड शासन से मुझे केदारनाथ धाम आने का न्यौता भी मिला।

केदारनाथ पहुंचने पर मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि धाम में पहुंचकर वे अपने को धन्य समझ रहे हैं।

केदारपुरी का पुनर्निर्माण कार्य सराहनीय:
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जून 2013 की आपदा से व्यापक रूप से प्रभावित केदारपुरी का पुनर्निर्माण कार्य सराहनीय है। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में केदारनाथ में किए जा रहे कार्य नए आयाम प्राप्त कर रहे हैं।

बाबा केदार की कृपा व आशीर्वाद से प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में पुनर्निर्माण कार्यों में सफलता प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि मैं बहुत दिनों से सोच रहा था कि केदारनाथ के दर्शन को जाऊं।

जब भी नियमित पूजा में बैठता था तो केदारनाथ धाम के दर्शन होते थे। दो दिन पूर्व ही उन्हें उत्तराखंड सरकार को मुझे न्यौता मिला।

4.40 बजे देहरादून से हेलीकॉप्टर केदारनाथ पहुंचा:
जहां मौसम साफ होने का इंतजार करते रहे, लेकिन दिन चढ़ने के साथ बर्फबारी तेज होती रही। शाम करीब सवा चार बजे मौसम में थोड़ा सुधार होने पर एमआई-26 हेलीपैड की बर्फ साफ की गई। शाम 4.40 बजे देहरादून से हेलीकॉप्टर केदारनाथ पहुंचा, जिसमें दोनों सीएम गौचर हवाई पट्टी के लिए रवाना हुए।

तहसीलदार सोहन सिंह रागड़ ने बताया कि सीएम योगी व सीएम रावत गौचर में आईटीबीपी कैंप में ही रात्रि प्रवास करेंगे। उन्होंने बताया कि मंगलवार को मौसम साफ होने पर वे बदरीनाथ जाएंगे अन्यथा गौचर से ही देहरादून लौट जाएंगे।

बदरीनाथ में दिनभर मुस्तैद रहा प्रशासन:
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत के बदरीनाथ दौरे को लेकर प्रशासन दिनभर धाम में मुस्तैद रहा। सुबह से होती बर्फबारी के बीच तापमान लगातार शून्य से नीचे रहा। कड़ाके की ठंड में पुलिस से लेकर प्रशासन की टीम व्यवस्थाओं में लगी रही।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड  के सीएम त्रिवेंद्र रावत को सोमवार को केदारनाथ से बदरीनाथ आना था, लेकिर सुबह से मौसम खराब होने पर दोनों केदारनाथ में ही फंसे रहे। उधर, दोनों मुख्यमंत्रियों की अगवानी के लिए बदरीनाथ विधायक महेंद्र भट्ट के अलावा जिला प्रशासन और पुलिस की टीम  मुस्तैद रही।


लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -


👉 सच की आवाज  के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 सच की आवाज  से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 सच की आवाज  के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -


👉 www.sachkiawaj.com


Leave a Reply

Your email address will not be published.