Uttarakhand Assembly Bharti घपले में अब तक 205 कर्मियों की सेवाएं समाप्त, 23 नियुक्तियों के संबंध में आज जारी होंगे पत्र

विधानसभा के भर्ती घपले में निरस्त की गईं 228 तदर्थ नियुक्तियों के मामले में बुधवार को 70 अन्य संबंधित कर्मियों की सेवा समाप्त कर दी गई। इस संबंध में उन्हें पत्र जारी कर दिए गए।
इसके साथ ही भर्ती घपले में अब तक 205 कर्मियों की सेवाएं समाप्त की जा चुकी हैं। बताया गया कि शेष रह गईं 23 नियुक्तियों के संबंध में गुरुवार को सेवा समाप्ति के पत्र जारी कर दिए जाएंगे।
निरस्त कर दी गईं थी 228 नियुक्तियां
भर्ती प्रकरण की जांच के बाद विधानसभा सचिवालय में वर्ष 2016 से 2021 तक हुईं 228 नियुक्तियां निरस्त कर दी गईं थी।
मार्शल के माध्यम से संबंधित कार्मिकों को हस्तगत कराए जा रहे पत्र
मुख्यमंत्री का अनुमोदन मिलने के बाद सोमवार से इन नियुक्तियों के मामले में संबंधित कार्मिकों को सेवा समाप्ति के पत्र जारी करने की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है, जो बुधवार को भी जारी रही। सेवा समाप्ति से संबंधित पत्र मार्शल के माध्यम से संबंधित कार्मिकों को हस्तगत कराए जा रहे हैं।
अनिवार्य स्थानांतरण से शिक्षकों को राहत
प्रदेश में अनिवार्य स्थानांतरण के दायरे में आए शिक्षकों को राहत मिलेगी। यह राहत उन्हीं शिक्षकों को मिलेगी, जो दुर्गम में ही सेवाएं देने के इच्छुक हैं। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति ने यह निर्णय लिया है। समिति के इस निर्णय को अमल में लाने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से शीघ्र आदेश जारी किए जाएंगे।

आदेश में प्राथमिक, माध्यमिक व उच्च शिक्षकों को राहत
मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति के समक्ष विभिन्न विभागों के कार्मिकों को स्थानांतरण में राहत देने के प्रस्ताव कार्मिक की ओर से भेजे गए थे। समिति इनमें से कई विभागों के प्रस्ताव पर मुहर लगा चुकी है। इस संबंध में कार्मिक सचिव शैलेश बगोली की ओर से आदेश जारी किया गया है। इस आदेश में प्राथमिक, माध्यमिक व उच्च शिक्षकों कोे यह राहत दी गई है।


लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -


👉 सच की आवाज  के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 सच की आवाज  से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 सच की आवाज  के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -


👉 www.sachkiawaj.com


Leave a Reply

Your email address will not be published.