कुंभ: हरिद्वार की सीमा पर चारो तरफ बनेंगे पार्किंग और आइएसबीटी



हरिद्वार कुंभ में दूसरे राज्यों से आने वाली बस को शहर की सीमा के बाहर बाहर ही रोकने के लिए हरिद्वार की चारों दिशाओं में शहर की सीमा के बाहर अस्थायी आइएसबीटी (इंटर स्टेट बस टर्मिनल) बनाए जाएंगे। इसके साथ ही शहरी सीमा पर ही बड़ी पार्किंग भी बनाई जाएंगी, ताकि बड़े स्नान पर्व पर बाहर से आने वाले वाहनों को शहर में प्रवेश करने से रोका जा सके। इन वाहनों के यात्रियों को शहर में लाने को मेला अधिष्ठान विशेष सार्वजनिक परिवहन का संचालन करेगा। आइएसबीटी और पार्किंग को सभी सुविधाओं से युक्त बनाया जाएगा, यहां श्रद्धालु यात्रियों के लिए रुकने, खाने सहित अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी। इसके लिए योजना तैयार हो गई है, जल्दी ही इनका निर्माण भी शुरू कर दिया जाएगा।

कोरोना संक्रमण काल में कुंभ के आयोजन की तैयारियों में लगा कुंभ मेला अधिष्ठान कुंभ के दौरान दूसरे राज्यों से हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं की स्वास्थ्य रक्षा को भीड़ नियंत्रण पर विशेष जोर दे रहा है। कोशिश की जा रही है कि श्रद्धालुओं के लिए कुछ इस तरह की व्यवस्था विकसित की जाए, जिससे उनकी धार्मिक भावना भी आहत न हो, कुंभ में उनके हरिद्वार आने के सभी मकसद भी पूरे हो जाएं और वह बिना किसी दिक्कत और स्वास्थ्य समस्या के इन्हें पूरा कर सुरक्षित अपने घरों की वापसी भी कर लें। इसके लिए मेला अधिकारी दीपक रावत और उनकी टीम इस तरह की योजना तैयार कर रही है कि कुंभ के समय खासकर विशेष स्नान पर्व के दौरान शहरी क्षेत्र विशेषकर कुंभ मेला क्षेत्र में एक समय में अधिक भीड़ एकत्र न होने दी जाए। योजना है कि एक तरफ से श्रद्धालु कुंभ मेला क्षेत्र में प्रवेश करें, जल्द से जल्द अपने धार्मिक अनुष्ठान पूरा कर दूसरे तरफ से बाहर निकल जाएं।

इसके लिए भीड़ नियंत्रण को शहरी सीमा से बाहर आइएसबीटी और बड़ी पार्किंग की योजना तैयार की गई है, जिससे कुंभ मेला क्षेत्र को आने वाली भीड़ मेला अधिष्ठान मेला क्षेत्र में जगह की उपलब्धता के हिसाब से नियंत्रित तरीके से मेला क्षेत्र में भेजेगा। इससे एक समय में कुंभ मेला क्षेत्र में न सिर्फ भीड़ की अधिकता को नियंत्रित किया जा सकेगा। और शहर को वाहनों की भीड़ से भी बचाया जा सकेगा।
दिल्ली, मुरादाबाद, देहरादून से आने वाले वाले हाईवे पर बनेंगी पार्किंग-आइएसबीटी

हरिद्वार: कुंभ के दौरान देहरादून की तरफ से आने वाले वाहनों को हरिपुर कलां के पास रोका जाएगा, यहीं अस्थायी आइएसबीटी बनेगा और यहीं पर पार्किंग भी। यहां से आगे वाहन नहीं जा सकेंगे। इसी तरह मुरादाबाद-बिजनौर की दिशा से आने वाले वाहनों व बस को कांगड़ी और उसके पास बनने वाले आइएसबीटी और पार्किंग में रोका जाएगा। दिल्ली की दिशा से रुड़की होते हुए हरिद्वार आने वाली बस व वाहनों को शांतरशाह में रोका जाएगा। सहारनपुर की दिशा से हरिद्वार आने वाले वाहनों व बस को बहदराबाद से पहले धनौरी क्षेत्र में ही रोकने की योजना है। इसी तरह दिल्ली-मेरठ के रास्ते पुरकारजी-लक्सर होते हुए हरिद्वार आने वाले वाहनों-बस को लक्सर और जगजीतपुर से पहले रोकने की योजना है।

हरिद्वार– लक्सर-दिल्ली राष्ट्रीय मार्ग को बनाया जा सकता है एकल दिशा मार्ग

हरिद्वार: मेला अधिष्ठान भीड़ नियंत्रण और मेरठ-दिल्ली की दिशा में श्रद्धालुओं की वापसी को सुनिश्चित बनाने के लिए हरिद्वार-लक्सर-पुरकाजीमार्ग को केवल मेरठ-दिल्ली की दिशा में जाने के लिए एकल मार्ग बनाने की योजना पर भी गंभीरता से विचार कर रहा है। तय किया गया है कि भीड़ बढ़ने और हरिद्वार-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों का दबाव अधिक होने पर इस योजना को अमल में लाया जाएगा। इसी तरह ऋषिकेश के रास्ते चीला होते हुए हरिद्वार आने वाले वाहनों व बस को चंडीपुल से पहले रोके जाने की योजना है।

‘भीड़ नियंत्रण और वाहनों के अधिक दबाव को कम करने के लिए मेला अधिष्ठान कई तरह की योजना पर काम कर रहा है। इसी के तहत हर दिशा से हरिद्वार आने वाले वाहनों और बस को शहरी सीमा पर रोकने की व्यवस्था बनायी गई है। इसके लिए हर रास्ते पर शहरी सीमा से बाहर आइएसबीटी बनाने के साथ-साथ सभी सुविधायुक्त बड़ी पार्किंग बनाई जा रही है।’
दीपक रावत, कुंभ मेलाधिकारी


लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -


👉 सच की आवाज  के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 सच की आवाज  से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 सच की आवाज  के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -


👉 www.sachkiawaj.com


Leave a Reply

Your email address will not be published.