उत्तराखंड में आयुर्वेद से जुड़े 15 विषयों की 108 सीटों पर पीएचडी में प्रवेश का मौका आया है।



उत्तराखंड में आयुर्वेद से जुड़े 15 विषयों की 108 सीटों पर पीएचडी में प्रवेश का मौका आया है। उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ने मंगलवार को इसका नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसके लिए 15 नवंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

आयुर्वेद विवि की ओर से सभी विषयों की प्रवेश परीक्षा 29 नवंबर को आयोजित की जाएगी। परीक्षा केवल आयुर्वेद विवि के हर्रावाला स्थित परिसर में होगी। इसके बाद पांच दिसंबर को काउंसिलिंग के बाद पीएचडी में दाखिला दिया जाएगा।
आवेदन के लिए सामान्य वर्ग को 2500 रुपये जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 2000 रुपये शुल्क देना होगा। पीएचडी के प्रथम वर्ष में आवेदक को 44000 रुपये शुल्क देना होगा, जिसमें से चार हजार रुपये कॉशन मनी बाद में लौटा दी जाएगी।

दूसरे व तीसरे वर्ष में आवेदक को 30 हजार रुपये शुल्क देना होगा। आवेदन करने के लिए विवि की वेबसाइट से आवेदन पत्र डाउनलोड करके उसे भर लें। इसके बाद रजिस्ट्रार, उत्तराखंड आयुर्वेद यूनिवर्सिटी, हर्रावाला, देहरादून-248001, उत्तराखंड के पते पर भेज दें।

किस विषय में कितनी सीटें:
विषय                                      सीटें
संहिता संस्कृत एवं सिद्धांत         6
रचना शरीर                                7
क्रिया शरीर                              11
द्रव्यगुण                                    6
रस शास्त्र                                10
रोग निदान                             12
अगदतंत्र                                 4
स्वस्थवृत्त                              3
कौमारा भ्रत्या                          8
प्रसूति तंत्र एवं स्त्री रोग            5
पंचकर्म                                  10
काया चिकित्सा                        8
शालक्य तंत्र                           12
शल्य तंत्र                                 2
बायोमेडिकल साइंस                 4


लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -


👉 सच की आवाज  के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 सच की आवाज  से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 सच की आवाज  के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -


👉 www.sachkiawaj.com


Leave a Reply

Your email address will not be published.